Tuesday, 3 April 2012

शिव.......


सुनो..
मानवता के,
दुनिया के,
समाजो के,
रीतियों के,
रिवाज़ो के,
धर्म के,
कर्म के,
प्रेम के,
सभी ज़हर पीना चाहता हूँ
मैं तुम्हारें लिये
शिव होना चाहता हूँ
~ अज़ीम