Saturday, 24 March 2012

सड़क .........

मैं चलता हूँ
तो साथ साथ चल देती है
मैं रुकता हूँ
तो रुक जाती है
एक सड़क ही है
जो साथ निभाती है 

~अज़ीम