Wednesday, 28 December 2011

आधे-अधूरे ख्बाव...


आधे-अधूरे ख्बाव
कभी सच हुये है ...
कम से कम 
सपने तो पूरे देखा करो....
~अज़ीम